ममता की निर्ममता की सरकार: हिंसक चुनाव हुआ बंगाल में 16 लोगो की मौत

602 Views

ममता की निर्ममता की सरकार: हिंसक चुनाव हुआ बंगाल में 16 लोगो की मौत

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में भीषण हिंसा हुई, जिसमें 16 लोगों की जान चली गई और 100 से अधिक घायल हो गए। घायलों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

शांतिपुर में हुई हिंसा में 1 व्यक्ति की मौत हो गई| वहीं 24 परगना कुलटोली में एक टीएमसी कार्यकर्ता की गोली मारकर हत्या कर दी गई| नॉर्थ  ब्लाक 24 परगना के अमडंगा में सीपीएम कार्यकर्ता की मौत हुई तो मुर्शिदाबाद में एक भाजपा कार्यकर्ता की  सरेआम हत्या कर दी गई| पंचायत चुनाव से पहले राज्य में सुरक्षा के इंतजामों की इस चुनाव में सारी पोल खुल गई. पूरे राज्य में हिंसा की खबरें आ रही हैं| पुलिस पूरी तरह से असहाय नजर आ रही है|

बंगाल चुनाव में ममता के मंत्री ने भाजपा समर्थक को थप्पड़ जड़ दिया,  चुनावी हिंसा में 20 से ज्यादा लोग घायल है| वोटिंग के लिए कड़े सुरक्षा इंतजामों के प्रशासन व राज्य चुनाव आयोग के तमाम दावे धरे के धरे रह गए और कई जिलों में मतदान आरंभ होने के साथ पूरे दिन खूनी खेल चलता रहा। हिंसा के बीच राज्य में 78 फीसद मतदान हुआ।

बीरपाड़ा से सामने आए एक वीडियो में कथित तृणमूल कार्यकर्ता एक पोलिंग बूथ के बाहर लोगों को वोट डालने जाने से रोकते हुए दिख रहे हैं।

देखे विडियो:

 

सीपीएम कार्यकर्ता के घर में आग : उत्तर 24 परगना में रविवार रात को सीपीएम के एक कार्यकर्ता के घर में आग लगी दी गई। कार्यकर्ता और उसकी पत्नी इसमें जिंदा जल गई। सीपीएम का आरोप है कि इस हमले के पीछे टीएमसी का हाथ है। घटना के बाद लोगों के बीच खौफ का माहौल है। आसपास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

मीडियाकर्मियों पर भी हमला : हिंसा में पांच स्थानीय पत्रकारों के घायल होने की खबर हैं। दक्षिण 24 परगना के भांगर में मीडिया की गाड़ी में आग लगाये जाने की सूचना है, एक कैमरा को नुकसान पहुंचाया गया है।

भाजपा ने साधा निशाना : राज्य चुनाव में हिंसा को लेकर भाजपा ने टीएमसी पर निशाना साधा है। भाजपा नेता सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि यह बेहद निंदनीय है। घटनाएं बताती हैं कि पश्चिम बंगाल में टीएमसी के राज में राजनीतिक हिंसा ने पूरे राज्य को चपेट में ले लिया है और यह लोकतंत्र के लिए खतरे की घंटी है।

इस चुनावी हिंसा की चपेट में चुनाव कवर कर रहे स्थानीय पत्रकार भी आ गए. करीब पांच पत्रकार हिंसा में घायल हुए. पत्रकारों के अनुसार, टीएमसी कार्यकर्ताओं ने उन पर हमला बाेला और उन्हें बुरी तरह पीटा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *